Hariyaali Teej (Hindi)

0 Comment(s)
684 View(s)
|

:: What was in my mind ::
Today was Hariyaali Teej, ...a unique festival of Rajasthani Ladies. They adorn themselves in the most beautiful manner to please Goddess Paarvati. They sing songs of Goddess as well as of rain... play games... move to parks... But isn't it better to celebrate this festival as per today's necessity, to establish a new tradition for our coming generations, which will please God and help them in their future as well.

हाथों में रचाकर हरी-हरी मेहँदी,
कलाईयों में हरी चूड़ियाँ डालूँ,
हरी साड़ी लपेट बदन पे,
खुद को हरी धरती सा सजा लूँ,
सखियों संग झूमूं किसी बगीचे में,
साज-श्रृंगार की बातें बना लूँ,
मगर क्यूँ नहीं आज सही मायने में
मैं ये त्यौहार मना लूँ,
पार्लर की बजाय नर्सरी को जा
चंद नए पौधे लिवा लूँ,
हाथों को मेहँदी की जगह
गीली मिट्टी से सजा लूँ,
और खुद सँवरने से पहले
एक पौधे को सँवारने की जिम्मेदारी उठा लूँ,
हरे बगीचे में तो सब जाते हैं,
पर आज किसी सूखे स्थान को हरा-भरा बना लूँ,
और उस हरे पौधे की दुआ से ही आज,
मैं ये हरियाली तीज मना लूँ,
मैं ये हरियाली तीज मना लूँ।

 0
 0
0 Comment(s) Write
684 View(s)



0 Comments: