Khushi :: Happiness (Hindi)

0 Comment(s)
1404 View(s)
|

:: What was in my mind ::
An innocent child is away from all worries, from social behavior, from all formalities... that's why he lives a happy life... He shows that happiness in every action... in his eyes... in the way he walks by jumping.... on his smiling face. The same happens when we gain spiritual happiness... the happiness of soul. It is above all riches of this materialistic world. But today man is running behind false charm. So I am requesting God to keep me as pure as a child's mind and soul... and away from false glitters.

पंछी की तरह उड़ने में, कूद-कूद कर चलने में,
आता है कितना मज़ा ओ प्रभुजी।
इसीलिए रोज़ फुदक-फुदक मैं आती हूँ तेरे द्वारे,
कि हे प्रभुजी! ऐसे ही मुझे फुदक-फुदक आने देना,
कूद-कूद चलने देना,
क्योंकि जो मज़ा इंसान बनकर फुदकने में है,
वो चिड़िया बन उड़ जाने में कहाँ।
चिड़िया बनकर तो कोई भी उड़ सकता है,
पर इंसान बन, हर कोई कहाँ फुदक पाता है।
इसीलिए हे प्रभु! मुझे यूँ ही इंसान बने फुदकते रहने देना,
चिड़िया सा मत बना देना।

 3
 0
0 Comment(s) Write
1404 View(s)



0 Comments: