Phool Aur Taare (Hindi)

0 Comment(s)
881 View(s)
|

:: What was in my mind ::
Today I saw the stars in the sky, which were about to disappear in the dawn and many flowers which were about to blossom in my garden. And thoughts and imagination started preparing a few lines for all of you.

रोज़ भोर होते ही छुप जाते हो,
ऐ तारों सुबह-सुबह कहाँ जाते हो,
खिल रहे हैं फूल मेरी फुलवारी में,
कहीं वो ही बनकर तो न आ जाते हो,
देखा है मैंने बन्द होते फूलों को शाम में,
और तभी तुम्हें लुक-छिप कर वापिस आते,
अच्छा मेरा इक काम करना,
उस चमकते चाँद को बोलना,
उगाया है कमल भी इसी बगीचे में मैंने,
पर वो अभी तक खिला नहीं,
जो चाँद कमल बन आये,
तो शायद वो भी खिल जाये,
और कल की बीती रात की तरह,
मेरी फुलवारी भी पूरी हो जाये।

 0
 0
0 Comment(s) Write
881 View(s)



0 Comments: